Cafe Reminiscence

Reminiscences

Barrish : बारिश

कार à¤�सी से जब दम घà¥�टने लगा तो शहर के बाहर निकल पड़ा कल रात बारिश हà¥�ई थी हरियाली और खाली सड़क दिखी तो नंगे पांव उतर गया और पैदल ही चल पड़ा ,   तलाश कर रहा था की…

254

काफी अरसे के  à¤¬à¤¾à¤¦ जाना हà¥�आ २५४ में , साफ़ सà¥�थरा सा लगा , हरियाली हे लेकिन वो २ आम के  , अमरà¥�द और नींबू के पेड़ अब नहीं रहे , दोपहर ,में गली के बचà¥�चे पतà¥�थर फेंकते होंगे ,बहà¥�त…

कैसी हो तà¥�म …….

धà¥�नà¥�दला सा याद हे चेहरा ,किसी नेटवरà¥�क साईट  à¤ªà¤° पिकà¥�चर देखी थी कà¥�छ समय पहले , सà¥�नà¥�दर सी थी , शायद पहले से जà¥�यादा , , लेकिन आà¤�खों के भाव समज नहीं आये , खà¥�श , उदास ,कोशिश तो करी…

शाम से आज आ�खों में नमी सी है

मà¥�जà¥�हे उसकी पà¥�रोफाइल pic अचछी लगी तो मेने यूà¤� ही कहा की à¤�क बस आà¤�खों की तसà¥�वीर भेज दो , कà¥�योंकि उसमे मेने नमी देखी , इतनी कम उमà¥�र में पानी , वो भी हमेशा ? उसने कहा दूसरी कà¥�यों…

Eye Donation & Reminiscences

मà¥�जहे गà¥�सà¥�सा तो आया जब रिसेपà¥�शनिसà¥�ट ने फॉरà¥�म को Rejected की सà¥�टामà¥�प लगा कर वापस कर दिया मेने पूछा तब उसने बताया की Eye डोनेशन फॉरà¥�म में आपने नीचे ये कà¥�या लिखा हे ? Attachments : HDD कà¥�छ सामान उसने…

कंचे :(Marbles)

Poem or short story ??  : Whatever … धà¥�नà¥�दला सा याद हे वो लड़का पतला दà¥�बला सा था , उसके बाल हमेशा सामने रहते थे , शायद कंघी करने की जरूरत ही नहीं थी या वो करता होगा लेकिन वो…